इस मंदिर में संकटमोचन हनुमान स्त्री रूप में देते हैं दर्शन, सबकी मनोकामनाएं करते हैं पूरी

जब लोगों पर कोई मुसीबत आती है या उनको किसी परेशानी से बाहर निकलने का मार्ग नहीं दिखता है तो अक्सर लोग भगवान को याद करते हैं, इन लोगों के द्वारा कठिन परिस्थिति में भगवान को याद करना इस बात को साबित करता है कि उनको भगवान पर विश्वास है, वैसे देखा जाए तो वर्तमान समय में भी भगवान पर विश्वास करने वाले लोगों की कोई कमी नहीं है, दुनिया भर में भगवान पर आस्था रखने वाले लोगों की संख्या बहुत अधिक है, अगर ऐसे में हम महाबली हनुमान जी के भक्तों की बात करें तो इनके भक्त दुनिया भर में बहुत है, ऐसा बताया जाता है कि सभी संकटों से छुटकारा पाने के लिए महाबली हनुमान जी का नाम स्मरण करना ही काफी होता है।

अगर किसी भक्त के ऊपर कोई मुसीबत आती है तो इनको सच्चे दिल से याद किया जाए तो मुसीबत पल भर में दूर हो जाती है या फिर उस मुसीबत से लड़ने की शक्ति प्राप्त होती है, संसार में महाबली हनुमान जी के ऐसे बहुत से मंदिर मौजूद है जो अपने चमत्कार के लिए प्रचलित है और हनुमान जी इन मंदिरों में अपने भक्तों की सभी दुख-परेशानियां दूर करते हैं।

संकट मोचन महाबली हनुमान जी के इन्हीं मशहूर मंदिरों में से आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में जानकारी देने वाले हैं जिसके अंदर महाबली हनुमान जी के स्त्री रूप के दर्शन होते हैं जी हां, इस मंदिर के अंदर महाबली हनुमान जी स्त्री रूप में विराजमान है, वैसे महाबली हनुमान जी ब्रह्मचारी हैं परंतु उनका स्त्री रूप देखकर अक्सर भक्तों को काफी आश्चर्य होता है और भक्त इनके इस रूप को बहुत ही आश्चर्यजनक होकर देखते हैं।

संकट मोचन महाबली हनुमान जी के विभिन्न मंदिरों में से एक छत्तीसगढ़ का रतनपुर गांव में हनुमान मंदिर मौजूद है, इस मंदिर की सबसे विशेषता यह है कि इस मंदिर के अंदर हनुमान जी का स्त्री रूप देखने को मिलता है, इस मंदिर में लोग हनुमान जी के स्त्री रूप के दर्शन करते हैं, अक्सर जैसा कि आप लोग जानते हैं महाबली हनुमान जी की पूजा ब्रह्मचारी किया करते हैं परंतु इस मंदिर के अंदर महाबली हनुमान जी के स्त्री रूप को देखकर लोग काफी आश्चर्यचकित हो जाते हैं, छत्तीसगढ़ के रतनपुर गांव में हनुमान जी का स्त्री रूप होने के पीछे कई मान्यताएं हैं जिनमें से पहला यह है कि हनुमान जी की प्रतिमा दस हजार वर्ष पुरानी है, इस मंदिर के अंदर सभी भक्त अपनी सच्ची श्रद्धा भाव से मंदिर में दर्शन करने के लिए आते हैं, ऐसा बताया जाता है कि इस मंदिर में सभी भक्तों की मनोकामनाएं महाबली हनुमान जी पूरी करते हैं।

इस मंदिर की मान्यता अनुसार ऐसा बताया जाता है कि इस गांव में महाबली हनुमान जी की नारी रूप में मूर्ति स्थापना के पीछे भी कई कथाएं मशहूर है, प्राचीन काल में रतनपुर के एक राजा हुआ करते थे, जिनका नाम “पृथ्वी देवजू” था और यह हनुमान जी के सबसे बड़े भक्त थे, एक बार राजा को कुष्ठ रोग हो गया था जिसकी वजह से वह अपने जीवन से काफी हताश हो गए थे, एक रात जब वह सो रहे थे तब महाबली हनुमान जी ने उनको सपने में दर्शन दिए और राजा को हनुमान जी ने मंदिर बनवाने के लिए कहा था, जब मंदिर का निर्माण संपन्न हो गया तब फिर से महाबली हनुमान जी राजा के सपने में आए थे और उनसे कहा था कि उनकी प्रतिमा को महामाया कुंड से निकाल कर इस मंदिर में स्थापित करें, महाबली हनुमान जी के आदेशानुसार राजा ने महामाया कुंड में भगवान हनुमान जी की प्रतिमा देखी तो वह नारी रूप में थी जैसा कि महाबली हनुमान जी ने आदेश दिया था उसी के अनुसार राजा ने हनुमान जी की नारी रूप की प्रतिमा मंदिर में स्थापित कर दी।

जब राजा ने संकट मोचन महाबली हनुमान जी की प्रतिमा मंदिर में स्थापित की तो उसके पश्चात राजा कुष्ठ रोग से मुक्त हो गए थे और उन्होंने लोगों की मनोकामनाएं पूरी करने की प्रार्थना की थी, महाबली हनुमान जी की कृपा से राजा अपनी बीमारी से छुटकारा पा चुके थे और राजा की दूसरी मनोकामना को पूरी करने के लिए हनुमान जी सालों से लोगों की मनोकामनाएं पूरी करते आ रहे हैं, महाबली हनुमान जी की स्त्री रूप की प्रतिमा पूरे विश्व में बिल्कुल अनोखी है आप महाबली हनुमान जी की स्त्री रूप की प्रतिमा केवल छत्तीसगढ़ के रतनपुर गांव में ही देख सकते हैं इसके अलावा आपको किसी भी राज्य में महाबली हनुमान जी के इस रूप के दर्शन नहीं होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *