अमरीश पुरी 87 वीं जयंती: अमरीश पुरी ने इन 5 बेहतरीन फिल्मों से लोगों का दिल चुराया

बॉलीवुड इंडस्ट्री में अगर खलनायक की बात की जाए तो अमरीश पुरी का नाम सबसे ऊपर आता है, Late अमरीश पुरी बॉलीवुड फिल्मों में ज्यादातर खतरनाक खलनायक के रूप में नजर आए है, उन्होंने अपनी छवि बॉलीवुड में खलनायक के रूप में बनाई है, इनके द्वारा निभाए गए हर रोल को लोग आज भी याद करते हैं, आप लोगों को सुपरहिट फिल्म “मिस्टर इंडिया (1987)” का सबसे फेमस डायलॉग “मोगैम्बो खुश हुआ” तो याद ही होगा, इस फिल्म का डायलॉग आज भी लोगों की जबान पर रहता है, अमरीश पुरी का जन्म 22 जून 1932 को हुआ था, उन्होंने बॉलीवुड में बहुत से किरदार निभाए हैं और यह अपने हर किरदार को बखूबी निभाते हैं, इनके बेहतरीन किदार को आज भी लोग सलाम करते हैं।

आज अमरीश पुरी की 87 वी जयंती मनाई जा रही है, इस उपलक्ष में हम आपको ऐसी पांच फिल्मों के बारे में जानकारी देने वाले हैं जिन फिल्मों में अमरीश पुरी के द्वारा निभाए गए किरदार ने लोगों का दिल जीत लिया है, इन फिल्मों में इन्होंने खलनायक का रोल नहीं बल्कि एक अच्छे इंसान का रोल निभाया है, जिसने लोगों के दिलों पर एक अलग ही छाप छोड़ दी है।

चलिए जानते हैं इन पांच बेहतरीन फिल्मों के बारे में | Amrish Puri 87th Birth Anniversary

परदेस (1997)

बॉलीवुड की सुपरहिट फिल्म “परदेस” ने लोगों के दिल पर एक अपनी खास जगह बनाई है, सुभाष घई की 1997 में हिट हुई फिल्म जिसके अंदर अभिनेता शाहरुख खान और अभिनेत्री महिमा चौधरी नजर आए थे, इसके अंदर अमरीश पुरी ने एक अमीर NRI व्यक्ति का किरदार निभाया है, इस फिल्म के अंदर अमरीश पुरी ने अपने अमेरिकी बेटे राजीव (अतुल अग्निहोत्री) का विवाह गंगा से करने का निर्णय लिया था, गंगा एक भारतीय मूल्य वाली लड़की है, इस फिल्म के अंदर बहुत से उतार-चढ़ाव देखने को मिलते हैं, इस फिल्म के अंदर राजीव गंगा के साथ शारीरिक संबंध बनाने का भी प्रयास करता है, लेकिन आखिरी में अर्जुन और गंगा एक हो जाते हैं।

दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे (1995)

आप सभी लोगों ने “दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे” फिल्म तो देखी ही होगी, यह फिल्म आदित्य चोपड़ा के निर्देशन में बनाई गई थी, इस फिल्म के अंदर मुख्य भूमिका में अभिनेता शाहरुख खान और अभिनेत्री काजोल नजर आई थी, इस फिल्म के अंदर काजोल ने अमरीश पुरी की बेटी का रोल निभाया है, इस फिल्म में अभिनेता शाहरुख खान अमरीश पुरी की बेटी से प्यार करते हैं और उससे शादी करना चाहते हैं, लेकिन अमरीश पुरी इन दोनों के प्यार को स्वीकार नहीं करते हैं लेकिन आखिरी में अमरीश पुरी ने इन दो प्रेमी जोड़ों को आपस में मिलवा दिया था, इस फिल्म के अंदर यह एक अच्छे दिल वाले आदमी के रूप में नजर आए हैं, “जा सिमरन जा, जी ले अपना जीवन” यह आवाज आज भी लोगों के जेहन में कहीं ना कहीं है, इस फिल्म के अंदर एक पिता अपनी बेटी के प्यार में किस तरह समर्पित है इस चीज को दर्शाता है।

चाइना गेट (1998)

चाइना गेट फिल्म भी अपने समय की सबसे सुपरहिट फिल्म साबित हुई थी, राजकुमार संतोषी के निर्देशन में बनी इस फिल्म को काफी लोगों ने पसंद किया था, इस फिल्म का मशहूर गाना “छम्मा छम्मा” लोगों के बीच काफी लोकप्रिय रहा था, इस गाने को उर्मिला मातोंडकर ने निभाया था, इस फिल्म में अमरीश पुरी द्वारा निभाई गई भूमिका को लोगों के द्वारा काफी प्रशंसा मिली थी।

विरासत (1997)

फिल्म विरासत में अनिल कपूर, तब्बू और अमरीश पुरी ने भूमिका निभाई है, इस फिल्म के अंदर अमरीश पुरी ने राजा ठाकुर की भूमिका अदा की थी, यह एक पारंपरिक गांव के पिता है, जो अपने पश्चिमी बेटे के साथ संघर्ष करते हुए नजर आ रहे हैं, इस फिल्म के अंदर इनकी भावनाओं को प्रदर्शित किया गया है, जिसको सभी दर्शक साफ-साफ महसूस कर सकते हैं।

मस्कुरहाट (1992)

इस फिल्म के अंदर अमरीश पुरी ने पूर्व न्यायधीश गोपी चंद वर्मा की भूमिका निभाई है, जो एक अच्छे दिल के व्यक्ति थे, इन्होंने अपने जहन में बहुत से रहस्य छुपाए थे, इस फिल्म के अंदर जय मेहता और रेवती ने मुख्य भूमिका अदा की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *